क्या शत्रु ने किया है – मारण, वशीकरण, उच्चाटन प्रयोग ? दुर्गा सप्तशती से करें निवारण (संस्कृत)

sidh kunjika stotra

#DurgaSaptashati #Navratri #Sidh_Kunjika_Stotra #MaranPrayog #VashikaranPrayog

ओम नमः शिवाय

सज्जनों

शास्त्रों में छह प्रकार के आभिचारिक कर्म बताए गए हैं। मतलब अशुभ कार्य जिनके द्वारा दूसरों को दुख, पीड़ा, परेशानी दी जा सकती है। यह 6 प्रकार के आभिचारिक कर्म क्रमशः मारण, मोहन, वशीकरण, स्तंभन, विद्वेषण, उच्चाटन आदि कहलाए जाते हैं।

मारण प्रयोग में व्यक्ति के ऊपर मारक मंत्रों के द्वारा प्रयोग किए जाते हैं। जिससे कि उस पर मृत्यु समान कष्ट आता है अथवा कई बार उसकी मृत्यु भी हो जाती है।

मोहन कर्म में उसको मोह लिया जाता है तथा वशीकरण प्रयोग करके उसको अपने वश में कर लिया जाता है।

स्तंभन प्रयोग में कोई भी चलता हुआ कार्य, चलती हुई गाड़ी अथवा पढ़ाई में अच्छे चल रहे बालक पर यदि स्तंभन प्रयोग कर दिया जाए तो सब चीजें स्तंभित हो जाती हैं अर्थात रुक जाती हैं। कई बार किसी की कोख पर भी स्तंभन कर दिया जाता है। इसलिए उस स्त्री को बालक नहीं हो पाते और कई बार चलती हुई दुकान अथवा काम धंधा भी बिल्कुल ठप हो जाता है। इसका मुख्य कारण स्तंभन प्रयोग ही होता है।

विद्वेषण प्रयोग में जिन व्यक्तियों के बीच आपस में प्यार – प्रेम, स्नेह होता है। उनके ऊपर विद्वेषण प्रयोग कर दिया जाता है। जिस कारण से उनमें आपस में बैर, दुश्मनी, ईर्ष्या, लड़ाई झगड़े होने आरंभ हो जाते हैं।

उच्चाटन प्रयोग में जिस व्यक्ति के ऊपर उच्चाटन प्रयोग होता है। उस व्यक्ति का मन, बुद्धि, अंतरात्मा उच्चाट हो जाती है अर्थात वह पागलों की नाईं इधर-उधर भटकता है। उसका चित्त कहीं भी टिकता नहीं है। इस प्रकार से यह छह आभिचारिक कर्म है और यह प्रयोग जिस किसी व्यक्ति के ऊपर होते हैं तो ऊपर बताए गए विधान के अनुसार उस पर प्रभाव आता है।

शास्त्रों में सातवा कर्म भी बताया गया है। जिसे शांति कहा जाता है। अर्थात इन बताए गए छह आभिचारिक कर्मों की शांति हो जाती है। मेरे द्वारा आज के इस वीडियो में बताया जा रहा है कि जिस किसी व्यक्ति के ऊपर यदि उसके शत्रु ने यह 6 प्रकार के अभिचार कर्म कर दिए हैं तो वह दुर्गा जी की आराधना करके इन सभी की शांति कर सकता है।

आइए जानते हैं इस वीडियो में –

दुर्गा जी की पूजा, अर्चना, व उनकी प्रसन्नता से संबंधित अन्य वीडियोज हमारे द्वारा बनाए गए हैं। उन वीडियोज़ का लिंक हमारे द्वारा नीचे दिया जा रहा है।

नवरात्रि में दुर्गा पाठ करने की सबसे सरल विधि |

दुर्गा श्राप विमोचन कैसे

गायत्री श्राप विमोचन कैसे करें ?

ज्योतिष से संबंधित नया वीडियो पाने के लिये हमारा यूट्यूब चैनल https://www.youtube.com/c/ASTRODISHA सबस्क्राइब करें। इसके अलावा यदि आप हमारी संस्था के सेवा कार्यों तथा प्रोडक्ट्स से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी बेवसाइट https://www.astrodisha.com/ पर जा सकते हैं और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप हमें help@astrodisha.com पर मेल कर सकते है।

Contact – +91-7838813444, +91-7838813555, +91-7838813666, +91-7838813777

Whats app – +91-7838813444

Email – help@astrodisha.com

Website – https://www.astrodisha.com

Facebook – https://www.facebook.com/AstroDishaPtSunilVats

durga saptashati, happy navratri, navratri colours, navratri 2020 start date, navratri date, navratri wishes, chaitra navratri, chaitra navratri 2020, happy navratri wishes, navratri wishes in hindi, ghatasthapana, 4th day of navratri, navratri start, 7th day of navratri, 8th day of navratri, navratri katha, navratri puja vidhi, navratri puja, navratri festival, navarathri pooja, navratri ki aarti, goddess durga navratri, navratri devi, navratri sthapana, kalaratri, navratri days, kalash sthapana vidhi, navratri ki katha, navarathri pooja, durga navratri, navratri ashtami, navratri information, durga saptshati kawach in hindi, durga saptashati hindi, navratri kalash sthapana, navratri havan vidhi, navratri ki puja vidhi, navratri special, chaitra navratri puja vidhi, navratri sthapana, durga saptashati hindi

Maa Durga Mantra| Shtru Vinashak Mantra| दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला

Durga maa 32 naam

Maa Durga Mantra for Navratri. Know What is Shatru Vinashak Mantra. Learn Happy Navratri special maa durga mantra !

ओम नमः शिवाय ,

सज्जनों वैसे तो मां भगवती (Durga Maa) सदैव ही भक्तों की रक्षा करके उन्हें अभयदान देती हैं। परंतु मेरे द्वारा बताए जा रहे आज का यह स्तोत्र विशेष तौर पर शत्रुओं के विनाश के लिए है। यदि कोई व्यक्ति किसी गहरे संकट में पड़ गया हो, शत्रु के द्वारा घेर लिया गया हो अथवा हिंसक पशु व्याघ्र आदि से ग्रसित हो गया हो तो यदि वह भगवती दुर्गा की स्तुति इस स्तोत्र के द्वारा करे तो अवश्य ही मां भगवती जगदंबा उसकी रक्षा करेंगी। यह स्तोत्र मेरे द्वारा कई बार अनुभूत है। अतः आप सभी साधक व सज्जन भी स्तोत्र का पाठ करके अनुभूति प्राप्त कर सकते हैं।

आइए जानते हैं इस स्तोत्र के बारे में – दुर्गा जी (Maa Durga Ji) की पूजा, अर्चना, व उनकी प्रसन्नता से संबंधित अन्य वीडियोज हमारे द्वारा बनाए गए हैं। उन वीडियोज़ का लिंक हमारे द्वारा नीचे दिया जा रहा है।

नवरात्रि में दुर्गा पाठ करने की सबसे सरल विधि |

दुर्गा श्राप विमोचन कैसे करें ?

गायत्री श्राप विमोचन कैसे करें ?

ज्योतिष से संबंधित नया वीडियो पाने के लिये हमारा यूट्यूब चैनल https://www.youtube.com/c/ASTRODISHA सबस्क्राइब करें। इसके अलावा यदि आप हमारी संस्था के सेवा कार्यों तथा प्रोडक्ट्स से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी बेवसाइट https://www.astrodisha.com/ पर जा सकते हैं और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप हमें help@astrodisha.com पर मेल कर सकते है।

Contact – +91-7838813444, +91-7838813555, +91-7838813666, +91-7838813777

Whats app – +91-7838813444

Email – help@astrodisha.com Website – https://www.astrodisha.com

Facebook – https://www.facebook.com/AstroDishaPtSunilVats

maa durga ke 32 chamatkari naam, maa durga 32 names in hindi, 32 names of durga mp3 download, 32 names of durga in durga saptashati, 32 names of durga devi in hindi, 32durga maa ke battis naam, names of maa durga in hindi, दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला, 32 Names of Maa Durga, माता के 32 नाम की माला, दुर्गा द्वात्रिंश नाम माला का स्त्रोत, दुर्गा जी के 32 नामावली, दुर्गा स्तोत्र नाम, दुर्गा 32 नाम स्तोत्र. दुर्गा 32 नाम स्तोत्र, दुर्गा जप माला, durga saptashati, happy navratri, navratri colours, navratri 2020 start date, navratri date, navratri wishes, chaitra navratri, chaitra navratri 2020, happy navratri wishes, navratri wishes in hindi, ghatasthapana, 4th day of navratri, navratri start, 7th day of navratri, 8th day of navratri, navratri katha, navratri puja vidhi, navratri puja, navratri festival, navarathri pooja, navratri ki aarti, goddess durga navratri, navratri devi, navratri sthapana, kalaratri, navratri days, kalash sthapana vidhi, navratri ki katha, navarathri pooja, durga navratri, navratri ashtami, navratri information, durga saptshati kawach in hindi, durga saptashati hindi, navratri kalash sthapana, navratri havan vidhi, navratri ki puja vidhi, navratri special, chaitra navratri puja vidhi, navratri sthapana, durga saptashati hindi

दुर्गा श्राप विमोचन कैसे करें ? Durga Shaap Vimochan

durga saptshati



ओम नमः शिवाय, सज्जनों हमारे शास्त्रों के अनुसार वैदिक मंत्र, दुर्गा जी के मंत्र, गायत्री मंत्र आदि जो मंत्र हैं। वह सभी शापित हैं। बहुत सारे लोग पूजा पाठ, स्तोत्र का पाठ, नामावली का पाठ, मंत्र जाप आदि करते हैं परंतु उन्हें लाभ नहीं हो पाता। बहुत लोग ब्राह्मणों से भी अनुष्ठान आदि करवाते हैं परंतु लाभ नहीं होता। इसका मुख्य कारण है कि हमारे जो वैदिक मंत्र हैं। वह अधिकतर शापित है। अतः जब तक शाप विमोचन नहीं हो जाता तब तक हमें पूर्ण रुप से लाभ नहीं मिल पाता है। आज के इस वीडियो में आपको दुर्गा शाप विमोचन के बारे में बताया जाएगा कि किस प्रकार से हम दुर्गा जी के मंत्रों से श्राप विमोचन कर सकते हैं और उसके बाद हम प्रत्येक मंत्र से किस प्रकार लाभ उठा सकते हैं। आइए जानते हैं आज के इस वीडियो में।

प्रतिदिन ज्योतिष से संबंधित नया वीडियो पाने के लिये हमारा यूट्यूब चैनल https://www.youtube.com/c/ASTRODISHA सबस्‍क्राइब करें। इसके अलावा यदि आप हमारी संस्था के सेवा कार्यों तथा प्रोडक्ट्स से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्‍त करना चाहते हैं तो आप हमारी बेवसाइट https://www.astrodisha.com/ पर जा सकते हैं और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप हमें help@astrodisha.com पर मेल कर सकते है।


Contact – +91-7838813444, +91-7838813555,
+91-7838813666, +91-7838813777

Whats app – +91-7838813444


Email – help@astrodisha.com
Website – https://www.astrodisha.com
Facebook – https://www.facebook.com/AstroDishaPtSunilVats/

Durga Shaap Vimochan , Durga Shraap Vimochan, durga shaap vimohan kaise kare ? durga mantra, durga mata, sri durga mantra,  durga puja, durga saptashati, sherawali mata, durga ji, devi mahatmyam, durga parameshwari

दुश्मन विनाश के लिए मंत्र | Destroy Enemy Mantra | Durga mantra

destroy enemy

destroy enemy

एक समय की बात है ब्रह्मा आदि देवताओं ने पुष्पों तथा अनेक उपचारों से महेश्वरी भगवती दुर्गा जी का पूजन किया। इससे प्रसन्न होकर दुष्टों का नाश करने वाली दुर्गा जी ने कहा –

‘हे ! देवताओं,  मैं तुम्हारे पूजन से संतुष्ट हूं, तुम्हारी जो इच्छा हो, मांग लो,  मैं तुम्हें दुर्लभ से दुर्लभ वस्तु भी प्रदान करूंगी।

दुर्गा जी का यह वचन सुनकर देवता बोले हे ! देवी, हमारे जितने भी शत्रु थे, उन सबको आप ने मार डाला। यह जो एक से एक महान बलशाली जैसे महिसासुर, चंड – मुंड, धूम्र विलोचन, रक्तबीज, शुंभ – निशुंभ आदि सब राक्षसों को आपने मार डाला, इससे संपूर्ण जगत निर्भय हो गया है। सबके भीतर का डर खत्म हो गया है।

आपकी ही कृपा से हमें दोबारा अपने – अपने पद की प्राप्ति हुई है। आप भक्तों के लिए कल्प वृक्ष के समान हैं। हे ! माता’ हम आप की शरण में आए हैं, अतः अब हमारे मन में कुछ भी पाने की इच्छा बाकी नहीं है।

आपने हमें बिना मांगे ही सब कुछ दे दिया है। हमारे मन में इस समूचे जगत की रक्षा के लिए एक प्रश्न हैं। वह प्रश्न हम आप से पूछना चाहते हैं।

हे ! भद्रकाली’ कौन सा ऐसा उपाय है ? जिससे जल्दी प्रसन्न होकर आप संकट में पड़े हुए प्राणी की तुरंत रक्षा करती हैं। हे ! देवेश्वरी’ यह बात यदि सर्वथा गोपनीय हो तो भी आप हम पर कृपा करके हमें अवश्य बताएं।

देवताओं के इस प्रकार प्रार्थना करने पर दयामयी दुर्गा देवी ने कहा-

‘हे ! देवगण’ सुनो जो रहस्य मैं आप लोगों को बता रही हूं, यह रहस्य संपूर्ण जगत में अत्यंत दुर्लभ और गोपनीय है। जो व्यक्ति संकट में पड़ा होने पर, मेरे बत्तीस नामों की माला का जाप करता है, उसके ऊपर आई हुई आपत्ति और विपत्ति का तुरंत नाश हो जाता है।

हे ! देवताओं, तीनों लोकों में इन बत्तीस नामों की स्तुति के समान कोई दूसरी स्तुति नहीं है। यह स्तुति बहुत ही रहस्यमयी है, फिर भी तुम पर कृपा करते हुए मैं इसे बतलाती हूं, ध्यान से सुनो –

1   दुर्गा                                             2  दुर्गार्तिशमनी                                            3  दुर्गापद्विनिवारिणी

4   दुर्गमच्छेदिनी                              5   दुर्गसाधिनी                                               6  दुर्गनाशिनी

7   दुर्गतो धारिणी                             8  दुर्गनिहन्त्री                                                9   दुर्गमापहा

10  दुर्गमज्ञानदा                               11  दुर्ग दत्य लोक दवानला                             12  दुर्गमा

13  दुर्गमालोका                               14  दुर्गम आत्म स्वरूपिणी                            15  दुर्गमार्गप्रदा

16  दुर्गमविद्या                                  17   दुर्गमाश्रिता                                            18  दुर्गम ज्ञान संस्थाना

19  दुर्गम ध्यान भासिनी                    20   दुर्गमोहा                                                21  दुर्गमगा

22  दुर्गमार्थस्वरूपिणी                     23   दुर्गमासुरसंहन्त्री                                   24  दुर्गमायुधधारिणी

25  दुर्गमांगी                                     26    दुर्गमता                                              27   दुर्गम्या

28   दुर्गमेश्वरी                                  29    दुर्गभीमा                                               30   दुर्गभामा

31   दुर्गभा                                        32    दुर्गदारिणी

हे ! देवताओं, जो मनुष्य मेरे इन बत्तीस नामों की नाम माला का पाठ करता है, वह निसंदेह सब प्रकार के भय से मुक्त हो जाता है।

•••••••••••••••••

 

Dushman Vinash / दुश्मन विनाश के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें। आप Comment box में Comment जरुर करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Durga mantra, Durga naam  , mantra from durga saptshati, durga 32 naam, durga battis naam, durga namawali

भय विनाश के लिए मंत्र | Durga Saptshati Mantra

durga saptshati

durga saptshati

ज्वाला-कराल-मृत्युग्रम-शेषासुर-सूदनम् ।

त्रिशूलं पातु नो भीतेर्भद्रकाली नमोस्तुते ।। (दुर्गा सप्तशती)

यदि किसी व्यक्ति के जीवन में किसी दुश्मन के कारण से डर हो। अचानक कोई विपत्ति आ पड़ी हो, तो इस मंत्र का की एक माला या श्रद्धा अनुसार नित्य जाप करना चाहिए।

•••••••••••••••••

 

भय विनाश के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Mantra destroy Disaster, Mantra to goodluck , Durga saptshati mantra, mantra from durga saptshati, bhay vinash mantra

विपत्ति विनाश के लिए मंत्र | Mantra to Destroy Disaster

mantra durga saptshati

mantra durga saptshati

शरणागत दीनार्त, परित्राण परायणे ।

सर्वस्यार्तिहरे देवी, नारायणि नमोस्तुते ।। (दुर्गा सप्तशती)

जब चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ था। दानवों और राक्षसों ने तपस्या के बल पर स्वर्ग लोक, पृथ्वी लोक पर अपना शासन स्थापित कर लिया था। अच्छे और सज्जन लोगों पर को दुख दिया जाता था और प्रताड़ित किया जाता था।

जब किसी को कुछ नहीं सोच रहा था। यहां तक की सभी देवी देवता भी राक्षसों के भय से आतंकित थे, तो सबने मिलकर शक्ति स्वरूपा मां दुर्गा का आवाहन किया और उनसे अपने प्राण बचाने का निवेदन किया।

तब मां दुर्गा ने ही इस समस्त ब्रह्मांड को संपूर्ण भयों से मुक्त किया था। आज भी जो भक्तगण श्रद्धा और विश्वास के साथ मां शक्ति की पूजा – उपासना करते हैं। उन सब का अनुभव है कि माता अपने भक्तों की संपूर्ण विपत्तियों का अंत कर देती हैं।

इसलिए जीवन में आ रहे संकटों के नाश व मां भगवती की कृपा प्राप्ति के लिए इस मंत्र का श्रद्धा अनुसार जाप करना चाहिए।

•••••••••••••••••

 

विपत्ति विनाश के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Mantra destroy Disaster, Mantra to goodluck , Durga saptshati mantra, mantra from durga saptshati,

सौभाग्य और अच्छे स्वास्थ्य के लिए मंत्र | Health Mantra

Health Mantra durga saptshati

Health Mantra durga saptshati

देहि सौभाग्यमारोग्यं, देहि में परमं सुखम् ।

रूपम देहि, जयं देहि, यशो देहि, द्विषो जहि ।। (दुर्गा सप्तशती)

आज के समय में अच्छा स्वास्थ्य किसे नहीं चाहिए  अच्छा स्वास्थ्य ही सभी उन्नतियों को दर्शाता है।

‘कहा भी गया है, पहला सुख निरोगी काया’

उस धन का भी क्या फायदा जो हम उपभोग ना कर सकें। आज के समय में बहुत सारे लोग पैसा तो बहुत कमाते हैं, परंतु वह सारा पैसा डॉक्टर हकीम वैद्य आदि के पास जाता रहता है अर्थात खर्च होता रहता है। कारण शरीर रोगों का घर बन गया है। हमारे शास्त्रों में बताए गए दिव्य मंत्रों का उपयोग करके हम आरोग्यता को प्राप्त कर सकते हैं, इन्हीं दिव्य मंत्रों में से यह सप्तशती मंत्र बड़ा अमोघ है।इस मंत्र का नियमित जाप करने से अच्छे स्वास्थ्य, विजय, सौभाग्य व यश की प्राप्ति होती है।

•••••••••••••••••

 

सौभाग्य और अच्छे स्वास्थ्य के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

what is health mantra ,  mantra related to health, Improve good energy, Durga saptshati mantra, mantra from durga saptshati,

दुर्घटना व महामारी नाश के लिए मंत्र | Remove Badluck

Misshaping remove

Misshaping remove

जयंती मंगला काली, भद्रकाली कपालिनी ।

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री, स्वाहा स्वधा नमोस्तुते ।।

(दुर्गा सप्तशती)

यदि किसी के घर में अचानक अनहोनी घटनाएं, दुर्घटना, अकाल मृत्यु, भय, रोग, शोक आदि बार-बार होते हों, उस स्थिति में इस मंत्र का 11,000 जप-अनुष्ठान करना चाहिए।

घर से निकलने से पहले प्रतिदिन तीन बार इस मंत्र का जाप करके जाना चाहिए। इस मंत्र के प्रभाव से अकाल मृत्यु आदि दोषों का निवारण होता है। इस दिव्य मंत्र के प्रभाव से अनहोनी घटनाएं रुक जाएंगी और व्यक्ति को जीवन में सुख सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

•••••••••••••••••

 

महामारी नाश के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

How to remove badluck, How to remove bad energy, Durga saptshati mantra, mantra from durga saptshati,

रोग नाश करने के लिए मंत्र  | Health Mantra | Durga Saptshati

health mantra

health mantra

रोगान् शेषान् पहंसि तुष्टा ,

रुष्टा तु कामान् सकलानभीष्टान् ।

त्वामाश्रितानाम् न विपत्रराणाम् ,

त्वामाश्रिता हाश्रयताम् प्रयान्ति ।। (दुर्गा सप्तशती)

जो व्यक्ति बहुत अधिक बीमार रहता हो, अनेक उपाय व बहुत इलाज करने के बावजूद भी यदि ठीक नहीं हो रहा हो, तो उसे मां जगदंबा के इस अलोकिक मंत्र का आसरा लेना चाहिए।

मैंने स्वयं इस मंत्र का चमत्कार अपने जीवन में कई बार देखा है। मरण तुल्य कष्ट में पड़े हुए व्यक्ति को भी जीवन दान देने का सामर्थ्य इस मंत्र में है। मां भगवती का ध्यान करके लाल रंग के आसन पर बैठकर एक कटोरी पानी में देखते हुए अथवा रोगी की दवाई को निहारते हुए इस मंत्र की एक माला जाप करें।

फिर वह अभिमंत्रित जल या दवाई उस रोगी को खिला दें। मंत्र के प्रभाव से रोगी को दवाई लगनी शुरू हो जाएगी और जल्दी ही भला चंगा हो जाएगा।

•••••••••••••••••

 

रोग नाश के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Mantra for healthy life, mantra for health, Mantra for healing, get well soon, Durga saptshati mantra, mantra from durga saptshati,

Beautiful wife | सुंदर पत्नी प्राप्ति के लिए मंत्र | Durga Saptshati

beautiful wife mantra

beautiful wife mantra

पत्नीम् मनोरमाम् देहि, मनोवृत्तानुसारिणीम् ।

तारिणीम् दुर्गसंसारसागरस्य, कुलोद्भवाम् ।। (दुर्गा सप्तशती)

आजकल बहुत से युवाओं की शादी में ग्रह चाल के कारण से अनेक विघ्न आते रहते हैं।  इन विघ्नों को दूर करने के लिए और मनचाही पत्नी की प्राप्ति के लिए, दुर्गा जी का यह मंत्र कल्प वृक्ष के समान है।

इस मंत्र के अनुष्ठान से सुंदर, सुलोचना, गुणों से युक्त व घर को बसाने वाली पत्नी की प्राप्ति होती है। इस मंत्र के अकाट्य प्रभाव से अनेक लोगों का घर बसा है। आप भी बसा सकते हैं।

परंतु इस मंत्र का प्रयोग विवाह से पहले ही करें बाद में नहीं। गृहस्थ जीवन में आए विघ्न को दूर करने के लिए अथवा आपसी मनमुटाव दूर करने के लिए इस मंत्र का प्रयोग ना करें।

•••••••••••••••••

 

सुंदर पत्नी प्राप्ति के बारे में यह Mantra यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Beautiful Wife mantra, mantra to get beautiful wife , how to get beautiful wife, Luck mantra , Success mantra, Maa Durga Mantra , Durga Saptshati, Mantra from durga saptshati ,