Janiye Kis Din Kya Kaam Karna Shubh Hai | जानिए किस दिन क्या काम करें

Shubh Din

Shubh Din

जानिए किस दिन क्या काम करना शुभ है

 

रविवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  पूर्व, उत्तर (दक्षिण पूर्व)

यात्रा में त्याज्य:-  पश्चिम, नैऋत्य (दक्षिण-पश्चिम कोण)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  विज्ञान, इंजीनियरिंग, सेना, उद्योग, बिजली, मैडिकल एवं प्रशासनिक शिक्षा संबंधी l

व्यापार संबंधी कार्य:-  राज्य प्रशासनिक कार्य, सेना अधिकारी, ज्यूलर्स, औषधि, शास्त्र, अग्नि, अनाज, सोना, तांबा, चांदी, गाय – बैलादि का क्रय – विक्रय, मैडिकल, इलेक्ट्रिकल, मंत्रानुष्ठान व हवन आदि l

सोमवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  पश्चिम, दक्षिण (उत्तर, पश्चिम)

यात्रा में त्याज्य:- पूर्व, उत्तर आग्नेय (दक्षिण – पूर्व)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  लेखननादि कार्य, मैडिकल, शिक्षा, सौंदर्य, प्रसाधन, औषधि निर्माण, योजना संबंधी l

व्यापार संबंधी कार्य:-  कृषि, गाय, भैंस, दूध, घी, डेयरी, फॉर्म, औषधि, तरल पदार्थ, शंख, मोती, स्त्री, धन – सम्पदा, सौंदर्य प्रसाधन संबंधी वस्तुओं का क्रय – विक्रय, विदेशी पत्राचार आदि l

मंगलवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  दक्षिण-पूर्व

यात्रा में त्याज्य:-  उत्तर, पश्चिम वायव्य (उत्तर-पश्चिम)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  बिजली, सर्जरी की परीक्षा, शस्त्र, विद्या सीखना अग्नि, स्पोर्ट्स और भूगर्भ विज्ञान, दंत चिकित्सा आदि l

व्यापार संबंधी कार्य:-  शक्ति, अग्नि एवं बिजली से संबंधित कार्य, बेकरी इलेक्ट्रॉनिक,गुड़, सोना, तांबा, मूंगा, पीतल का कार्य, भूमि, सर्जरी एवं रक्षा सामग्री संधि विच्छेद अदि कार्य l

बुधवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  दक्षिण, पूर्व नैऋत्य (दक्षिण, पश्चिम)

यात्रा में त्याज्य:-  उत्तर, पश्चिम, ईशान (पूर्व – उत्तर)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  गणित,लेखनादि, बौद्धिककार्य, बैंक, वकालत, तकनीकी कार्य, ज्योतिषी, विज्ञान, वाहन चलाना सीखना l

व्यापार संबंधी कार्य:-  कृषि एवं व्यापारिक वस्तुओं का क्रय – विक्रय, शेयर बाजार, बैंकिंग, पुस्तक, लेखन प्रशासन अकाउंट्स, शिक्षण वकालत,शिल्प, एवं सम्पादन कार्य, वाहन क्रय – विक्रय।

वीरवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  पूर्व, उत्तर ईशान (पूर्व, उत्तर)

यात्रा में त्याज्य:-  दक्षिण -पूर्व नैऋत्य (दक्षिण – पश्चिम)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:- दर्शन-शास्त्र, धर्म-मंत्र,ज्योतिष, वकालत, उच्च पद प्रशासनिक शिक्षा, औषधि आदि l

व्यापार संबंधी कार्य:-धार्मिक अनुष्ठान, उच्च प्रशासनिक कार्य, उच्च शिक्षा के कार्य, आभूषण, लकड़ी, भूमि, वाहन का लेन-देन, विदेश गमनादि कार्य l

शुक्रवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  पूर्व, उत्तर (उत्तर, पूर्व)

यात्रा में त्याज्य:-  पश्चिम, दक्षिण नैऋत्य कोण (दक्षिण, पश्चिम)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  नृत्य, वाद्य, गायन, कला, संगीत, एक्टिंग, गीत-काव्य, रचना, स्त्रियों एवं सौंदर्य संबंधी शिक्षा।

व्यापार संबंधी कार्य:-  संगीत, सिनेमा, विदेश यात्रा, टेलीविजन, स्त्रियों एवं सौंदर्य संबंधी संबंधित कार्य, रूई, कपड़ा, चांदी , जवाहरात, रसायन, शराब, सोडा, सुगन्धित द्रव्य, वाहनादि क्रय- विक्रय, परफ्यूम आदि ।

शनिवार

यात्रा में शुभ ग्रह दिशाएं:-  पश्चिम, दक्षिण नैऋत्य (दक्षिण, पश्चिम)

यात्रा में त्याज्य:- पूर्व, उत्तर, ईशान (पूर्व-उत्तर)

विद्या एवं शिक्षा संबंधी:-  तकनीकी शिल्प, कला, मशीनरी संबंधी ज्ञान, अंग्रेजी, उर्दू फारसी का ज्ञान शुरू करना ।

व्यापार संबंधी कार्य:-  मशीनरी, लोहा, लकड़ी, चमड़ा, सीमेंट, तेल, पेट्रोल, पत्थर, भूमि, ठेकेदारी, शस्त्रों का क्रय-विक्रय, अन्वेषण कार्य, अधीनस्थ कर्मचारी, वाहनादि प्रयोग, विदेश यात्रा आदि कार्य ।

नाम 

वार

रवि सोम मंगल बुध वीर शुक्र शनि

नवीन वस्त्र 

धारण करना

शुभ  मध्यम अशुभ शुभ शुभ 

अति 

शुभ

अशुभ

नवीन आभूषण

धारण

शुभ शुभ मध्यम शुभ शुभ शुभअशुभ
तेल लगाना अशुभ शुभ अशुभ

विशेष

 शुभ

अशुभ शुभ

विशेष

 शुभ

हजामत करना मध्यम शुभअशुभ शुभ अशुभ शुभ मध्यम

नया जूता 

पहनना

  अशुभ शुभअशुभ शुभ मध्यमशुभ मध्यम
मुकदमा करना  अशुभ अशुभ शुभ शुभ अशुभ मध्यम शुभ 

 

Other Keywords-

shubh din | shubh din calendar | Navin vastra Dharan Karne ka Shubh Din Kab hai | Navin Abhushan Dharan Karne ka Shubh Din Kab Hai | Tel Lagana Ka Shubh Din kab Hai | Hjamt Krna ka Shubh Din hai | Nya Juta Phanna ka Shuh Din Kab Hai | Mukadma Krna Ka Shubh Din Kab HAi |Shubh Din Kab Hai | Good Day | Auspicious Day | Best Day | For New Work | shubh din for car purchase | shubh din hindu calendar | Shubh Muhurat To File A Law-Suit | Muhurat can Give Positive Results in Legal Matters | Muhurt for Court Case filing for Better Results | good day for property registration in 2021, good nakshatra for property registration | auspicious dates for property registration in january 2021 |
auspicious days for land registration 2021 | shubh muhurat for property registration in 2021 | auspicious dates for property registration in 2021 | Pashu Kharidne ka shubh Muhurt | Gay Kab Kharide | Shubh Muhurat To File Nomination Paper | Auspicious date for Election Nomination | Election Nomination Filing Shubh Muhurat | Astro When Is The Best Time And Lucky Day To Wear New clothes | Lucky dress, best time for new cloth, auspicious time for new cloth |

नए काम का शुभ मुहूर्त | नवीन वस्त्र धारण करने का शुभ दिन कब है | नवीन आभूषण धारण करने का शुभ दिन कब है | तेल लगाना का शुभ दिन कब है | हजामत करना का शुभ दिन कब है | नया जूता पहनना का शुभ दिन कब है | मुकदमा करना का शुभ दिन कब है | शुभ दिन कब है | पशु खरीदने का मुहूर्त | गाय खरीदने का शुभ मुहूर्त बताइए 2021 | गाय भैंस खरीदने के शुभ मुहूर्त | गाय किस दिन खरीदे | घर में गाय का आना | मुकद्दमा दायर करने का शुभ मुहूर्त | जमीन खरीदने का शुभ दिन | जमीन खरीदने का शुभ दिन 2021 | मकान खरीदने का शुभ दिन 2021 | प्रॉपर्टी खरीदने का शुभ दिन 2021 | नया कपड़ा पहनने का मुहूर्त | वस्त्र धारण विधि | नया वस्त्र कब धारण करें?

ॠण- ग्रहण ( कर्ज लेने ) मुहूर्त | Shubh Muhurat To Take Loan

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

 

Shubh Muhurat To Take Loan

ग्रार्हय तिथि :-1(कृष्ण), 2, 3, 5, 6, 7, 8, 10, 11, 12 (कृष्णशुक्ल), 13 (शुक्ल), 14

 ग्रार्हय  वार :-सोमवार, बुधवार, वीरवार, शुक्रवार, शनिवार  ।

ग्रार्हय नक्षत्र:-अश्विनी, रोहिणी, पुनर्वसु, पुष्य, उ0 फा0, उ0 षा0, उ0 भा0, हस्त, चित्रा, अनुराधा,  श्रवण,  धनिष्ठा, शतभिषा,  तथा रेवती तथापि  मृगशिरा, चित्रा,अनुराधा, रेवती विशेष रूप से शुभ है । 

शुभ लगन :-1, 4, 7, 10 लग्न   श्रेष्ठ है शुभ  ग्रह त्रिकोण ( 5, 9वे ) तथा अष्टम भाव शुद्ध  हो ।

विशेष :-मंगलवार को कर्ज के रूप में किसी से धन नहीं लेना चाहिए । संक्रांति वाले दिन, वृद्धि योग, हस्त नक्षत्र और रविवार में ऋण नहीं लेना चाहिए  ।

अपि च,  “ऋणच्च्छेदं  कुजे कुर्यात् संचयं सोमनन्दें”:-  मंगलवार को ऋणों को चुका देना तथा बुधवार को धन संचय करना चाहिए ।

Other Keywords:

पैसे उधार लेना,  कर्ज लेने का सही समय,  कर्ज मुक्ति के उपाय, 
किस दिन कर लेना चाहिए, ब्याज पर पैसा लेना , पैसे उधार लेना, ब्याज पर पैसा लेना, शुभ मुहूर्त का ऋण लेना, पैसा उधार लेने समझौता प्रारूप, कर्ज लेने का शुभ मुहूर्त, ऋण लेने  का मुहूर्त, कर्ज लेने का मुहूर्त, लोन किस दिन लेना चाहिए, Shubh Muhurat To Take Loan, BEST DAYS TO TAKE/GIVE LOANS, shubh muhurat to take loan in January | February | March | April | May | June | July | August| September | October | Novemeber | December , auspicious days to take loan 2021 , best nakshatra to take loan, 
Auspicious Day For Loan

ऋणदान (कर्ज देने) का मुहूर्त | Shubh Muhurat To Give Loan

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है ।

इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

Shubh Muhurat to Give loan

ग्रार्हय तिथि :-1 (कृष्ण), 2, 3, 6, 7, 8, 10, 11, 12 (कृष्ण, शुक्ल), 13 (शुक्ल ), 14

ग्रार्हय वार:- रविवार, सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार ।

ग्रार्हय  नक्षत्र :- अश्विनी, मृगशिरा, पुनर्वसु, पुष्य, चित्रा, विशाखा, स्वाति, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा और रेवती।

लग्न शुद्धि:- 1, 4, 7, 10 राशि लग्न।

पंचम नवम भाव में शुभ ग्रह तथा अष्टम भाव शुद्ध होना चाहिए।

 विशेष :- बुधवार को अपना धन किसी को भी नहीं देना चाहिए। अर्थात बुधवार को दिया हुआ धन वापस नहीं मिलता । भद्रा, व्यतीपात, पात, महापात तथा अमावस में दिया गया धन वापस प्राप्त नहीं होता ।

Other Keyword:

पैसे उधार देना | कर्ज चुकाने का सही समय | कर्ज मुक्ति के उपाय | किस दिन कर देना चाहिए |
ब्याज पर पैसा देना | कर्ज से मुक्ति | लोन किस दिन देना चाहिए | शुभ मुहूर्त का ऋण | पैसा उधार देने समझौता प्रारूप | 
कर्ज देने का शुभ मुहूर्त | ऋण देने का मुहूर्त | Shubh Muhurat To Give Loan | BEST DAYS TO TAKE/GIVE LOANS | shubh muhurat to Give loan January , Feburary , march april , may, june, july, august, september, october, november, december | auspicious days to give loan | best nakshatra to give loan

Auspicious Day For Loan

पशु अथवा वाहन (चौपाया) खरीदने का मुहूर्त | Pashu | Vahan Kharidne ka Muhurt

ज्योतिष वह विज्ञान है जो मनुष्य क़े अंधविश्वास रूपी अन्धकार का हरण करके ज्ञान का प्रकाश करता है| ज्योतिष भाग्य पर नहीं कर्म और केवल कर्म पर ही आधारित शास्त्र है|

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए पशुपालन के लिए पशु गाय, भैंस , ऊँट, बकरी पशु खरीदने के शुभ मुहूर्त नीचे दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

विशेष – जिस व्यक्ति का शनि कुंडली में शुभ अवस्था का बैठा हुआ हो, केवल उसी को शनिवार के दिन वाहन अथवा पशु खरीदना चाहिए। ध्यान रखें कि यहां पर चार टायर वाली गाड़ी के बारे में मुहूर्त दिया गया है। दो पहिया वाहन का मुहूर्त नहीं है।

 

Pashu OR Vahan (Car, Jeep ) Kharidne ka Shubh Muhurat

ग्रार्हय तिथि :- 1 (कृष्ण), 2, 3, 5, 6, 7, 8, 10, 11, 12 (कृष्ण, शुक्ल), 13 (शुक्ल), 14

ग्राह्य वार:- रविवार, चंदवार, बुधवार, गुरुवार, शनिवार ।

 ग्राह्य  नक्षत्र :- अश्विनी, पुनर्वसु, हस्त, विशाखा, ज्येष्ठा, धनिष्ठा, शतभिषा और रेवती   ।

Other Keyword:

पशु खरीदने का मुहूर्त | गाय खरीदने का शुभ मुहूर्त बताइए 2021 | Pashu Kharidne ka shubh Muhurt | Gaay (gau) Kab Kharide | गाय भैंस खरीदने के शुभ मुहूर्त | गाय किस दिन खरीदे | घर में गाय का आना |
गाय को किस दिशा में बांधना चाहिए | नया वाहन खरीदने का शुभ मुहूर्त | वाहन खरीदने का शुभ मुहूर्त | कार खरीदने का शुभ मुहूर्त  2021 | शुभ मुहूर्त-वाहन आज 2021 | गाड़ी खरीदने का मुहूर्त क्या है? | वाहन खरीद मुहूर्त | वाहन क्रय मुहूर्त, वाहन खरीदने का मुहूर्त, वाहन खरीदने के दिन, 2021 में वाहन खरीदने के दिन, Auspicious Vehicle Purchase Dates, Auspicious Vehicle Purchase Dates in Hindi, vahan kharidne ka muhurat 2021, 
naya vahan kharidne ka muhurat, aaj vahan kharidne ka muhurat, rashi ke anusar vahan kharidne ka muhurat

 

मुकद्दमा दायर करने का शुभ मुहूर्त | Shubh Muhurt for Court Case Filing

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

ग्रार्हय तिथि :-3, 5, 8, 10, 13(शुक्ल) तथा पूर्णिमा  ।

ग्रार्हय वार :-रविवार, मंगलवार, बुधवार,वीरवार  ।

ग्रार्हय  नक्षत्र :-भरणी, आर्द्रा, आश्लेषा, मघा, पूर्वा -तीनों, जेष्ठा तथा मूल  ।

ग्रह लग्न:-3, 6, 7, 8, 11 राशि लग्न  ।   जब शुभ ग्रह लग्न में हो  ,  पाप ग्रह 3, 6, 11 वे हो तथा अष्टम भाव शुद्ध हो  ।

विशेष :-गोचरानुसार  याचिकाकर्ता का चंद्रमा एवं मंगल भी बलावन्वित होने चाहिए|

 

Other Keyword:

Shubh Muhurat To File A Law-Suit | Shubh Muhurat can Give Positive Results in Legal Matters | Auspicious Dates Shubh Muhurt for Court Case filing for Better Results | मुकदमा कैसे जीते |
मुकदमा दायर करने का मुहूर्त

भूमि खरीदने का मुहूर्त | Shubh Muhurat for Property Purchase & Registration

जमीन | मकान | प्रॉपर्टी खरीदने का शुभ मुहूर्त (Shubh Muhurat)

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

मैं यहाँ  मकान, फ्लैट, प्लॉट और जमीन सहित किसी भी सम्पत्ति को खरीदने के लिए शुभः दिन दे रहा हूँ । आधुनिक सन्दर्भ में ये दिन सम्पत्ति के पंजीकरण के लिए अनुकूल हैं। 

 ग्राह्य मास:- वैशाख, जेष्ठा, आषाढ़ (मिथुनार्क तक – 15 जुलाई ), मार्गशीर्ष, माघ और फाल्गुन मास भूमि क्रय के लिए उत्तम कहे गए हैं  ।

 ग्राह्य  तिथियां:- 1(कृष्ण पक्ष), कृष्ण तथा शुक्ल पक्ष की2, 5, 6, 10,  11 एवं पूर्णिमा |

  ग्राह्य  नक्षत्र :- मृगशिरा, पुनर्वसु, अश्लेषा, मघा, विशाखा, अनुराधा, तीनों पूर्वा, मूल स्वाति, शतभिषा,और रेवती   ।

शुभ वार:- मंगलवार, गुरुवार एवं शुक्रवार  ।

 

Other Keyword:

good day for property registration in 2021, good nakshatra for property registration, auspicious dates for property registration in january | Feburary | March | April | May | June | July | August | September| October| November | December, auspicious days for land registration 2021, shubh muhurat for property registration in 2021, auspicious dates for property registration in 2021, shubh muhurat for property registration in 2021-22, auspicious dates for property registration in 2021, auspicious day for property registration in 2021, auspicious dates for property registration in august 2021-22, auspicious days for land registration 2021 

जमीन खरीदने का शुभ दिन | 
मकान खरीदने का शुभ दिन | प्रॉपर्टी खरीदने का शुभ दिन 

Shubh Muhurat for Property Purchase and Registration

चुनाव से खड़े होने का मुहूर्त | Shubh Muhurat To File Election Nomination Paper

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

[File Nomination for Election ] चुनाव नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त (Shubh muhurat) , शुभ दिन, तिथि, नक्षत्र, का चुनाव करने से कार्यसिद्धि की सफलता दोगुनी हो जाती है। आप भी चुनाव नामांकन ( Election Nomination ) के लिए मुहूर्त का अवश्य ही चयन करे अवश्य ही शुभ परिणाम आएगा।  यदि आप भी राजनीति से सम्बन्ध रखते हैं तो अवश्य ही चुनाव में टिकट लेने के लिए अपने पार्टी के शीर्षस्थ नेता से सम्पर्क में होंगे या आपका टिकट मिलना तय हो गया होगा तो मेरा आपसे अनुरोध है की शुभ मुहूर्त में ही चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करें क्योंकि किसी भी कार्य को पूरा करने के लिए शुभ दिन, तिथि, नक्षत्र, घड़ी इत्यादि का चुनाव करने से कार्यसिद्धि मुहूर्त की सफलता दोगुनी हो जाती है।

शुभ तिथियाँ :- 1(कृष्ण), 2, 3, 5, 9, 10, 12, 14 (शुक्ल)

शुभ वार:- सोमवार, बुधवार, वीरवार, शुक्रवार ।

शुभ लग्न :-1, 4, 8,10 ।

 शुभ नक्षत्र:-अश्विनी, रोहिणी, पुनर्वसु, पुष्य, उफा0, उषा0, उ भा0, हस्त,अनुराधा, श्रवण, धनिष्ठा, रेवती ।

 विशेष :-केंद्र, त्रिकोण में शुभ ग्रह हो आप ग्रहण हो,3, 6, 11 वें पाप ग्रह हो ।

 लग्न एंव लग्नेश पर शुभ ग्रह की  दृष्टि हो  ।

बुध, शुक्र,गुरु  उदित हों चन्द बली हो  । तथा प्रत्याशी की राशि मुहूर्त वाले दिन-छोटे,आठवें एवं 12 वें न हो ।

 संसद्  में शपथ ग्रहण के समय स्थिर लग्न प्रशस्त होता हैं।

Other Keywords:

Shubh Muhurat To File Nomination Paper, Auspicious date for Election Nomination, Election Nomination Filing Shubh Muhurat, नामांकन का शुभ समय, शुभ मुहूर्त में नामांकन,
चुनाव नामांकन हेतु शुभ मुहूर्त

नवीन वस्त्र धारण करने का मुहूर्त | Shubh Muhurat to wear New Lucky Dress

कर्म महान होता है । परंतु वह सही समय पर किए गए कर्म से ही महान बनता है । इसलिए यदि कोई व्यक्ति अशुभ समय में शुभ कार्य करता है तो उसको उसका उल्टा ही रिजल्ट मिलता है ।अर्थात उसका शुभ कर्म फलीभूत नहीं होता । परंतु अगर कोई व्यक्ति और अशुभ कर्म भी शुभ समय में कर लेता है तो उसको बुराई के बदले भलाई मिलती है ।

वैसे ही अशुभ समय में शुभ कार्य किया गया भी  भलाई के बदले बुरा ही जाता है । इसलिए जो भी काम किया जाना है, अगर वह सही समय पर किया जाए तो उसका परिणाम बिल्कुल पॉजिटिव होता है । हमारे द्वारा ध्यान में रखते हुए नीचे कुछ मुहूर्त दिए जा रहे हैं जो उस कार्य से संबंधित विशेष मुहूर्त हैं । इन मुहूर्तों में किए गए कार्य अवश्य ही सुख प्रदायक होंगे और इसका रिजल्ट भी बहुत अच्छा मिलेगा ।

विवाह , यज्ञ , सम्वत् या वर्षारम्भ में, विशेष उत्सव, त्यौहार, प्रेम के उपहार -स्वरूप, जन्म-नक्षत्र के दिन, ईश्वर भक्ति में अथवा ब्राह्मण की आज्ञा मिलने पर बिना पंचांग-शुद्धि के भी नवीन वस्त्र धारण किए जा सकते है  । यद्यपि व्यक्ति अपना  चंद्र बल देखकर और शुभ लग्न में नूतन वस्त्रों को धारण करे।

शुभ तिथियाँ:- 1(कृष्ण), 2, 3, 5, 7, 10, 11, 13 (शुक्ल) व.पूर्णिमा  ।

शुभ वार :-रविवार ,  बुधवार, वीरवार, शुक्रवार।

शुभ नक्षत्र :-अश्विनी, रोहिणी, पुनर्वसु, पुष्य,उफा0, उषा0, उ भा0, हस्त, चित्रा, स्वाती, विशाखा, अनुराधा  धनिष्ठा व रेवती।

 

Other Keyword:

नया कपड़ा पहनने का मुहूर्त | वस्त्र धारण विधि | नया वस्त्र कब धारण करें? 
Best Time And Lucky Day To Wear New dress , Lucky dress, best time for new cloth, auspicious time for new cloth, know your lucky dress

मंत्र सिद्ध करने का मुहूर्त | Auspicious Timings for Mantra Sadhana

सिद्धि‘ का शाब्दिक अर्थ है – ‘पूर्णता’, ‘प्राप्ति’, ‘सफलता’ आदि। 

ज्योतिष वह विज्ञान है जो मनुष्य क़े अंधविश्वास रूपी अन्धकार का हरण करके ज्ञान का प्रकाश करता है| ज्योतिष भाग्य पर नहीं कर्म और केवल कर्म पर ही आधारित शास्त्र है|

ज्योतिष (Astrology) की दुनिया में कुछ योग और मुहूर्त बेहद शुभ होते हैं | इन योग या मुहूर्त में विशेष पूजा या मंत्रों का जाप करने से शुभ फल मिलता है| साधना-सिद्धि में वार, तिथि, नक्षत्र और लग्न का बहुत महत्व है। कौन से वार, नक्षत्र एवं लग्न में साधना करें जानिए-

 

ग्राह्य तिथियाँ:-2, 3, 5, 7, 10, 11, 13 ( शुक्ल ), 15

ग्राह्य वार:-रविवार, सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार  ।

ग्राह्य नक्षत्र:-अश्विनी, मृगशिरा, उ.फा(), हस्त, श्रव्य. तथा विशाखा ।  इसके अतिरिक्त रविपुष्य योगो, निरयण एंव सायन संक्रन्ति सक्रंमण -काल, दीपावली आदि योगों मे मन्त्र सिध्दि सम्बन्धी कार्य किए जाते है  ।

 

Other Keyword:

 

मंत्र सिद्धि के अनुभव और समाधि, मंत्र  सिद्ध कैसे करें,  गुरु सिद्धि मंत्र, वाणी सिद्धि मंत्र, नारायण सिद्ध मंत्र
How do I get Siddhi powers?  
confirmation of mantra siddhi, mantra to get siddhis, shreem mantra siddhi, benefits of mantra siddhi. om namah shivaya mantra siddhi, sarva siddhi muhurat, mantra siddhi vidhi, which is the best muhurat, what is shubh muhurat, what is siddhi mantra, shubh muhurat for japa | auspicious moment | Auspicious Timings for Mantra Sadhana

ऑपरेशन कराने का मुहूर्त | Shubh Muhurat To Undergo Surgery (Operation)

ज्योतिष वह विज्ञान है जो मनुष्य क़े अंधविश्वास रूपी अन्धकार का हरण करके ज्ञान का प्रकाश करता है| ज्योतिष भाग्य पर नहीं कर्म और केवल कर्म पर ही आधारित शास्त्र है|

नक्षत्रों का कभी क्षरण नहीं होता तथा वे सदैव अपने स्थान पर ही रहते हैं। जिस नक्षत्र में बच्चे का जन्म होता है, उसी के अनुसार उसकी जन्म राशि का निर्धारण होता है। शुभ नक्षत्रों का ध्यान रखते हुए यदि कोई कार्य किया जाए तो उसमें सफलता मिलती है।

शुभ मुहूर्त-तिथि-वार देखकर कृषि संबंधी कार्यो की शुरूआत की जाए, तो अपेक्षित परिणाम मिलते हैं।

अन्य ग्रहों का संबंध मनुष्य पर या पृथ्वी पर स्पष्ट रूप में पड़े या नहीं, पर सूर्य एवं चंद्र का स्पष्ट प्रभाव पड़ता है। सूर्य के भिन्न-भिन्न नक्षत्रों में प्रवेश करने से मौसम बदलते रहते हं, उसी प्रकार पूर्णिमा एवं अमावस्या के फलस्वरूप समुद्र में ज्वार भाटा स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं। पूर्णिमा एवं अमावस्या को मानसिक रूप से असंतुलित लोग ज्यादा परेशान रहते हैं। इससे स्पष्ट होता है कि ग्रह-नक्षत्र का प्रभाव पृथ्वी के साथ-साथ मनुष्य पर भी पड़ता है। मौसम में परिवर्तन सूर्य-चंद्र का सम्मिलित प्रभाव से होता है।

जानें ऐसे ही कुछ शुभ नक्षत्र – तिथि-वार जो बेहद शुभ और लाभकारी हैं।

ग्राह्य तिथियाँ:- 2, 3, 5, 6, 7, 10, 12,  (13- शुक्ल)

ग्राह्य वार:- रविवार, मंगलवार, गुरुवार,  शनिवार  ।

ग्राह्य नक्षत्र:-अश्विनी, रोहिणी, मृगशिरा, हस्त,  चित्रा, स्वाति, अनुराध, अभिजीत, श्रवण  ।

 

Other Keyword:

रोगी के शल्य /ऑपरेशन कराने का शुभ मुहूर्त | Shubh Muhurt for Surgery |ऑपरेशन का मुहूर्त 2020 December | Shubh Muhurat To Undergo Surgery  | Shubh Muhurat To Start Treatment | Ideal Days to Begin Medical Treatment | Mahurata for Medical Treatment