क्या शत्रु ने किया है – मारण, वशीकरण, उच्चाटन प्रयोग ? दुर्गा सप्तशती से करें निवारण (संस्कृत)

#DurgaSaptashati #Navratri #Sidh_Kunjika_Stotra #MaranPrayog #VashikaranPrayog

ओम नमः शिवाय

सज्जनों

शास्त्रों में छह प्रकार के आभिचारिक कर्म बताए गए हैं। मतलब अशुभ कार्य जिनके द्वारा दूसरों को दुख, पीड़ा, परेशानी दी जा सकती है। यह 6 प्रकार के आभिचारिक कर्म क्रमशः मारण, मोहन, वशीकरण, स्तंभन, विद्वेषण, उच्चाटन आदि कहलाए जाते हैं।

मारण प्रयोग में व्यक्ति के ऊपर मारक मंत्रों के द्वारा प्रयोग किए जाते हैं। जिससे कि उस पर मृत्यु समान कष्ट आता है अथवा कई बार उसकी मृत्यु भी हो जाती है।

मोहन कर्म में उसको मोह लिया जाता है तथा वशीकरण प्रयोग करके उसको अपने वश में कर लिया जाता है।

स्तंभन प्रयोग में कोई भी चलता हुआ कार्य, चलती हुई गाड़ी अथवा पढ़ाई में अच्छे चल रहे बालक पर यदि स्तंभन प्रयोग कर दिया जाए तो सब चीजें स्तंभित हो जाती हैं अर्थात रुक जाती हैं। कई बार किसी की कोख पर भी स्तंभन कर दिया जाता है। इसलिए उस स्त्री को बालक नहीं हो पाते और कई बार चलती हुई दुकान अथवा काम धंधा भी बिल्कुल ठप हो जाता है। इसका मुख्य कारण स्तंभन प्रयोग ही होता है।

विद्वेषण प्रयोग में जिन व्यक्तियों के बीच आपस में प्यार – प्रेम, स्नेह होता है। उनके ऊपर विद्वेषण प्रयोग कर दिया जाता है। जिस कारण से उनमें आपस में बैर, दुश्मनी, ईर्ष्या, लड़ाई झगड़े होने आरंभ हो जाते हैं।

उच्चाटन प्रयोग में जिस व्यक्ति के ऊपर उच्चाटन प्रयोग होता है। उस व्यक्ति का मन, बुद्धि, अंतरात्मा उच्चाट हो जाती है अर्थात वह पागलों की नाईं इधर-उधर भटकता है। उसका चित्त कहीं भी टिकता नहीं है। इस प्रकार से यह छह आभिचारिक कर्म है और यह प्रयोग जिस किसी व्यक्ति के ऊपर होते हैं तो ऊपर बताए गए विधान के अनुसार उस पर प्रभाव आता है।

शास्त्रों में सातवा कर्म भी बताया गया है। जिसे शांति कहा जाता है। अर्थात इन बताए गए छह आभिचारिक कर्मों की शांति हो जाती है। मेरे द्वारा आज के इस वीडियो में बताया जा रहा है कि जिस किसी व्यक्ति के ऊपर यदि उसके शत्रु ने यह 6 प्रकार के अभिचार कर्म कर दिए हैं तो वह दुर्गा जी की आराधना करके इन सभी की शांति कर सकता है।

आइए जानते हैं इस वीडियो में –

दुर्गा जी की पूजा, अर्चना, व उनकी प्रसन्नता से संबंधित अन्य वीडियोज हमारे द्वारा बनाए गए हैं। उन वीडियोज़ का लिंक हमारे द्वारा नीचे दिया जा रहा है।

नवरात्रि में दुर्गा पाठ करने की सबसे सरल विधि |

दुर्गा श्राप विमोचन कैसे

गायत्री श्राप विमोचन कैसे करें ?

ज्योतिष से संबंधित नया वीडियो पाने के लिये हमारा यूट्यूब चैनल https://www.youtube.com/c/ASTRODISHA सबस्क्राइब करें। इसके अलावा यदि आप हमारी संस्था के सेवा कार्यों तथा प्रोडक्ट्स से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारी बेवसाइट https://www.astrodisha.com/ पर जा सकते हैं और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप हमें [email protected] पर मेल कर सकते है।

Contact – +91-7838813444, +91-7838813555, +91-7838813666, +91-7838813777

Whats app – +91-7838813444

Email – [email protected]

Website – https://www.astrodisha.com

Facebook – https://www.facebook.com/AstroDishaPtSunilVats

durga saptashati, happy navratri, navratri colours, navratri 2020 start date, navratri date, navratri wishes, chaitra navratri, chaitra navratri 2020, happy navratri wishes, navratri wishes in hindi, ghatasthapana, 4th day of navratri, navratri start, 7th day of navratri, 8th day of navratri, navratri katha, navratri puja vidhi, navratri puja, navratri festival, navarathri pooja, navratri ki aarti, goddess durga navratri, navratri devi, navratri sthapana, kalaratri, navratri days, kalash sthapana vidhi, navratri ki katha, navarathri pooja, durga navratri, navratri ashtami, navratri information, durga saptshati kawach in hindi, durga saptashati hindi, navratri kalash sthapana, navratri havan vidhi, navratri ki puja vidhi, navratri special, chaitra navratri puja vidhi, navratri sthapana, durga saptashati hindi

No comment yet, add your voice below!


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *